किन्नरो का अंतिम संस्कार कब होता है और कैसे जाने….

288

Bihar:- रोचक जानकारी

बिहार आज आप सबों के बीच एक ऐसी जानकारी लेकर आया हूं जो शायद ही आप सब जानते होगे। जानकारी किन्नरों के बारे में है,जी हां आपको बता दूं किन्नरों का अंतिम संस्कार आधी रात में किया जाता है, आखिर क्यों इनका अंतिम संस्कार आधी रात को किया जाता है? जानने से पहले आपको एक बात बता दू इन लोगों के बारे में ,

आपके घर जब कोई शुभ कार्य होता है, तो आप इन लोगों को बुलाकर खुशी से इनका आशीर्वाद लेते हैं। आपका मानना होता है इनका आशीर्वाद बेकार नहीं जाता इसका असर अच्छा होता है।

सभी धर्मों में मृत्यु उपरांत अलग-अलग तरीकों से अंतिम संस्कार किया जाता है ।हिंदू धर्म में शव को जलाया जाता है, तो मुस्लिम धर्म में दफनाया जाता है। इसी तरीके से सभी धर्म में अलग अलग तरीके से अंतिम संस्कार किया जाता है। क्या आपको पता है.

किन्नरों का अंतिम संस्कार किस तरीके से किया जाता है ?आपको बता दें इनकी मौत के बाद इनके शरीर को जलाया नहीं जाता इनके इन्हें दफन कर दिया जाता है, दफनाने से पहले उनकी आत्मा की शांति उनकी आत्मा की मुक्ति की प्रक्रिया की जाती है।

किन्नरों के मृत शरीर को आधी रात में दफनाया जाता है. ताकि इसे कोई देखे ना मान्यता है, कि इसे कोई व्यक्ति देख ले उनका अगला जन्म किन्नर के रूप में होता है। इसी कारण से आधी रात में किन्नरों का शरीर का अंतिम संस्कार किया जाता है। मरने के बाद इनके सभी रीति रिवाज भी रात में ही होता है ।  किन्नरों का समूह शव को जब दफन के लिए के जाते है, इस समय वह इसे जूते चप्पल से मारते पीटते हैं माना जाता है कि ऐसा करने से आत्मा मुक्त होती है ।और इनका जन्म दोबारा किन्नरों के रूप में नहीं होता है।

इस दौरान यह खुशियां मनाते हैं यह प्रार्थना करते हैं ईश्वर से कि इनकी आत्मा को मुक्ति मिले इसके बाद किन्नरों का समाज एक हफ्ते तक भूखा रहता है।

Source NEWj