भारतीय सिनेमा में सबसे प्रतिष्ठित और सम्मानित शख्सियतों में से,फिल्म सेट पर घातक दुर्घटना के बाद रातो रात स्टार बन गए

93

मनोरंजन-
आज मैं आपको एक ऐसे कलाकार के बारे में बताने जा रहा हूं जो किसी पहचान के मोहताज नहीं है जी हां मैं बात कर रहा हूं अमिताभ बच्चन जी के बारे में तो चलिए जानते हैं
अमिताभ बच्चन भारतीय सिनेमा में सबसे प्रतिष्ठित और सम्मानित शख्सियतों में से एक हैं। यहां उनके जीवन और करियर की विस्तृत जीवनी दी गई है:

पूरा नाम: अमिताभ हरिवंश बच्चन

जन्मतिथि: 11 अक्टूबर, 1942

जन्म स्थान: इलाहाबाद, संयुक्त प्रांत, ब्रिटिश भारत (अब उत्तर प्रदेश, भारत)

पारिवारिक पृष्ठभूमि:
अमिताभ बच्चन का जन्म प्रसिद्ध हिंदी कवि हरिवंश राय बच्चन और तेजी बच्चन के घर हुआ था। उनका एक छोटा भाई अजिताभ बच्चन है।

प्रारंभिक जीवन और शिक्षा:
अमिताभ बच्चन ने शेरवुड कॉलेज, नैनीताल में पढ़ाई की और बाद में दिल्ली विश्वविद्यालय के किरोड़ीमल कॉलेज चले गए, जहाँ उन्होंने कला स्नातक की डिग्री पूरी की। इसके बाद, उन्होंने पुणे में भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान (एफटीआईआई) से फिल्म और टेलीविजन में स्नातकोत्तर की डिग्री हासिल की।

कैरियर का आरंभ:
अमिताभ बच्चन का फिल्म इंडस्ट्री में शुरुआती सफर आसान नहीं था। शुरुआत में उन्हें अस्वीकृति का सामना करना पड़ा और खुद को एक अभिनेता के रूप में स्थापित करने के लिए उन्होंने संघर्ष किया। उनकी पहली फिल्म “सात हिंदुस्तानी” (1969) को ज्यादा सफलता नहीं मिली।

निर्णायक:
अमिताभ बच्चन को सफलता प्रकाश मेहरा द्वारा निर्देशित फिल्म “जंजीर” (1973) से मिली। विचारशील और निडर पुलिस अधिकारी, इंस्पेक्टर विजय खन्ना के उनके चित्रण ने उन्हें “एंग्री यंग मैन” उपनाम दिया और उन्हें स्टारडम तक पहुंचा दिया। इस फिल्म से बॉलीवुड में उनके प्रतिष्ठित करियर की शुरुआत हुई।

कैरियर की प्रमुख उपलब्धियाँ:
अमिताभ बच्चन ने भारतीय सिनेमा में कई प्रतिष्ठित प्रदर्शन दिए। उनकी कुछ उल्लेखनीय फिल्में और उपलब्धियां शामिल हैं:

“दीवार” (1975): विवादित अंतरात्मा वाले तस्कर विजय वर्मा की उनकी भूमिका उनके बेहतरीन अभिनयों में से एक मानी जाती है।

“शोले” (1975): जय की भूमिका निभाते हुए, अमिताभ बच्चन इस प्रतिष्ठित भारतीय फिल्म से एक घरेलू नाम बन गए।

“अमर अकबर एंथोनी” (1977): इस मल्टी-स्टारर फिल्म में, उन्होंने एंथोनी गोंसाल्वेस का किरदार निभाया, जिसने उनकी सुपरस्टार की स्थिति को और मजबूत कर दिया।

“डॉन” (1978): एक्शन से भरपूर इस थ्रिलर में अमिताभ बच्चन ने डॉन और विजय की दोहरी भूमिका निभाई, जो एक क्लासिक बनी हुई है।

“कुली” (1983): इस फिल्म को सेट पर लगभग घातक दुर्घटना और अमिताभ बच्चन के चमत्कारिक रूप से ठीक होने के लिए याद किया जाता है, जिससे उनकी लोकप्रियता में वृद्धि हुई।

“शहंशाह” (1988): उन्होंने विजय का सुपरहीरो जैसा किरदार निभाया, इस प्रक्रिया में उन्हें “शहंशाह” (सम्राट) उपनाम मिला।

“अग्निपथ” (1990): इस अपराध नाटक में विजय दीनानाथ चौहान के उनके किरदार ने उन्हें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार दिलाया।
करियर वापसी:
1990 और 2000 के दशक की शुरुआत में एक संक्षिप्त अंतराल के बाद, अमिताभ बच्चन ने “मोहब्बतें” (2000), “कभी खुशी कभी गम” (2001), और “बागबान” (2003) जैसी फिल्मों के साथ उल्लेखनीय वापसी की, जिससे एक अभिनेता के रूप में उनकी स्थिति मजबूत हुई। भारतीय सिनेमा में स्थायी किंवदंती।

टेलीविजन और अन्य उद्यम:
अमिताभ बच्चन ने बेहद लोकप्रिय गेम शो “कौन बनेगा करोड़पति” (“हू वांट्स टू बी अ मिलियनेयर?” का भारतीय संस्करण) के साथ टेलीविजन होस्टिंग में भी कदम रखा है। उनके होस्टिंग कौशल ने उन्हें छोटे पर्दे पर बड़े पैमाने पर फॉलोअर्स अर्जित कराए।

वह विभिन्न सामाजिक और मानवीय कार्यों में भी शामिल रहे हैं और मनोरंजन उद्योग और समाज में उनके योगदान के लिए उन्हें कई पुरस्कार और सम्मान प्राप्त हुए हैं।

व्यक्तिगत जीवन:
अमिताभ बच्चन की शादी जया बच्चन से हुई है और उनके दो बच्चे हैं, अभिषेक बच्चन (एक अभिनेता भी) और श्वेता बच्चन-नंदा। बच्चन परिवार भारतीय फिल्म उद्योग में एक प्रमुख स्थान रखता है।

परंपरा:
अमिताभ बच्चन सिर्फ एक अभिनेता नहीं हैं; वह भारत में एक सांस्कृतिक प्रतीक हैं। भारतीय सिनेमा पर उनका प्रभाव अतुलनीय है, और वह विविध और चुनौतीपूर्ण भूमिकाएँ निभाते हुए फिल्म उद्योग में सक्रिय हैं।

यह जीवनी अमिताभ बच्चन के जीवन और करियर का एक सिंहावलोकन प्रदान करती है, लेकिन यह केवल भारतीय सिनेमा में उनके विशाल योगदान और अभिनेताओं और फिल्म प्रेमियों की पीढ़ियों पर उनके स्थायी प्रभाव की सतह को खरोंचती है।