बिहार सरकार में नगर विकास मंत्री रंजीत सिंह उर्फ रंग बाबू का देहांत..

215

बिहार सरकार में नगर विकास मंत्री रंजीत सिंह उर्फ रंग बाबू का

रंजीत सिंह उर्फ रंग बाबू का देहांत गुड़गांव स्थित मेदांता अस्पताल में हुआ, उनका पार्थिव शरीर एंबुलेंस से आज रात्रि में गया पहुंचेगा, तथा कल यानी 26 मार्च को 11बजे इनका पार्थिव शरीर इनके गया पिपरपांती मोहल्ला स्थित आवास से निकल कर गया जिला कांग्रेस कार्यालय राजेंद्र आश्रम में लोगो के श्रद्धासुमन अर्पित करने, पार्टी झंडा ओढ़ाने हेतु आधाघंटा रखा जाएंगे फिर वहां से विष्णुपद शमशान घाट पर अंतिम संस्कार होगा ।

अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान से कराने हेतु बिहार सरकार एवम् स्थानीय प्रशासन को सूचना दे दी गई है । बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रदेश प्रतिनिधि सह क्षेत्रीय प्रवक्ता प्रो विजय कुमार मिठू ने कहा कि शोक सभा में गया जिला कांग्रेस प्रभारी पूर्व मंत्री बिहार सरकार सह विधायक विजय शंकर दुबे, पूर्व मंत्री अवधेश कुमार सिंह, पूर्व विधायक मो खान अली,, जिला कांग्रेस अध्यक्ष चंद्रिका प्रसाद यादव, प्रवक्ता विजय कुमार मिठू, बाबू लाल प्रसाद सिंह, बैजू प्रसाद, युगल किशोर सिंह, राम प्रमोद सिंह, शिव कुमार चौरसिया, धर्मेंद्र कुमार निराला, दामोदर गोस्वामी, मो खैरुद्दीन, शशि किशोर शिशु, विनोद उपाध्याय, रंजीत कुमार सिंह, राजेंद्र सिंह, बालमुकुंद पांडेय, रेवती रमण, मो उमैर खान, मौलाना आफताब खान, मो सरवर खान, बीरेंद्र सिंह बीरू, उमेश सिंह, कुंदन कुमार, विपिन बिहारी सिन्हा, श्रवण पासवान, उदय शंकर पालित, बाल्मिकी प्रसाद, जगरूप यादव, सतेंद्र नारायण सिंह, आदि ने कहा की हर दिल अजीज, जनमानस के बीच बेहद लोकप्रिय रहे मृदुभाषी तथा वार्ड काउंसलर, विधायक, मंत्री, सांसद यानी नगर सरकार, बिहार सरकार, विधानसभा, लोकसभा के सदस्य रहने वाले रंजीत सिंह उर्फ रंग बाबू के अब हमलोग के बीच नहीं रहे से काफी दुख है, इनकी भरपाई भी मुश्किल है ।

भरा पूरा परिवार रंजीत सिंह उर्फ रंग बाबू का भरा पूरा परिवार में उनकी पत्नी सूर्यपरी देवी, दो पुत्र इंजीनियर अमित कुमार, जो गुड़गांव में पोस्टेड है, दूसरा आनंद कुमार जो गया व्यवहार न्यायालय में अधिवक्ता तथा कांग्रेस पार्टी के नेता है, तथा दो पुत्रियां जिनकी शादी विवाह हो चुकी है । गया नगर पालिका में वार्ड काउंसलर, तथा चेयरमैन के रूप में इनका महत्वपूर्ण योगदान रहा, जिसे लोग आज भी याद करते हैं ।

बिहार, झारखंड एक रहने के समय 1980 में कांग्रेस पार्टी के चतरा से सांसद रहे, सन 1985, 1990 में दो,दो बार अतरी विधानसभा से विधायक एवम् बिहार सरकार में नगर विकास मंत्री भी रहे । मृदुभाषी, सरल स्वभाव, बेहद साधारण वेश भूषा, पहनाबा, सभी को सम्मान देना, किसी के काम के लिए पैदल, रिक्सा से जाकर करना, कभी कोई अंगरक्षक नहीं रखना, इनकी खासियत थी