दुकानदार के बिना बिकती है, समान इमानदारी की मिसाल है यह शहर….

341

भारत- मिजोरम जहां आपको दुकान पर दुकानदार नहीं मिलेंगे समान लो पैसा दो और चल दो।भारत की एक ऐसा राज्य मिजोरम जहां के दुकानों पर दुकानदार नहीं होते हैं, ईमानदारी की बड़ी मिसाल है हमारे देश का यह शहर जहां दुकानदारों के बिना चलती है दुकाने।

आप जब भी बाजार सामान लेने जाते हैं तो दुकानदार को समान के बदले पैसे देकर आते हैं कभी ऐसा हो आपको दुकानदार दुकान पर ना मिले तो खाली हाथ लौट आते हैं, लेकिन भारत के एक ऐसा राज्य है मिजोरम जहां कई ऐसी दुकानें हैं जहां आपको कोई दुकानदार नहीं मिलेगा और आपको सामान भी मिलेगा।

क्योंकि इस जगह पर बनी सभी दुकान पर आप सामान के बदले पैसे खुद रख कर चले आएंगे जानकारी हैरानी भरी है लेकिन सच यही है।

आपको जानकारी दे दूं पूर्वोत्तर के राज्य मिजोरम में ऐसी ही दुकानें हैं  जहां दुकानदार नहीं मिलेंगे लोग इमानदारी से सामान लेते हैं, और पैसे रख कर वापस चले जाते हैं। मिजोरम की राजधानी आइजोल के कुछ घंटे की दूरी पर बसा सेलिंग शहर इसका उदाहरण है। जहां स्थानीय समुदाय के लोग एक अनोखी परंपरा का पालन करते हैं आपको बताते चलें मिजोरम में लगा लो डावर संस्कृति आज भी काफी प्रचलित है। इस परंपरा के अनुसार सेलिंग शहर में दुकानें तो खोली जाती है, लेकिन दुकानदार नहीं बैठे होते हैं। लोग वहां रखे बॉक्स में पैसा रख सामान लेकर चले जाते हैं यह दुकाने ज्यादातर छोटे किसानों के द्वारा लगाई जाती है।

इनके सामान बेचने का तरीका निराला होता है  चौकी या बास पर सामान रख  साथ ही किसी चीज पर चौक या कोयला  से दाम लिख कर चले जाते हैं। लेने वाले लोग लिखा दाम देखकर ईमानदारी से बॉक्स में पैसा रख अपनी जरूरत के सामान लेकर जाते हैं। पैसा बॉक्स में या इसके भाषा बोले तो ‘पवीसा बावन ‘ या   पविसा दहना’कहा जाता है या इसमें छुट्टे पैसे का भी बॉक्स रखते हैं जहां बाकी पैसे ग्राहक स्वयं ले लेते है।

https://twitter.com/MyHomeIndia/status/1273888578750181378?s=19

मिजोरम के कई शहरों और गांवों में यह परंपरा सालों से चली आ रही है जहां ईमानदारी की मिसाल पेश की जाती है यहां के स्थानीय लोगों ने इस परंपरा को अपनी ईमानदारी के जरिए आज भी जिंदा रखा है और राज्य के लिए अद्भुत हैरान कर देने वाली बात है।